CELIBACY

CELIBACY OF HOUSEHOLDERS : CHALANGES  AND SOLUTIONS

 CELIBACY OF HOUSEHOLDERS : CHALANGES   AND SOLUTIONS                             गृहस्थ ब्रह्मचर्य CELIBACY : वर्तमान चुनौतियाँ और समाधान          (ब्रह्मचर्य अणुव्रत अतिचार के सन्दर्भ में )                                   …

Read More
Tirthankara Mahavir

Tirthankara Mahavir : The youth Icon युवाओं के प्रेरणास्रोत तीर्थंकर महावीर Tirthankara Mahavir

युवाओं के प्रेरणास्रोत तीर्थंकर महावीर Tirthankara Mahavir प्रो.अनेकांत कुमार जैन  Prof.Dr Anekant Kumar Jain Shri Lalbahadur Shastri National Sanskrit University, New Delhi ईसा से लगभग छह सौ वर्ष पूर्व भारत की धरती पर भगवान महावीर Tirthankara Mahavir का जन्म साधना के क्षेत्र में एक क्रांतिकारी युग की शुरुआत थी। चैत्र शुक्ला त्रयोदशी के दिन वैशाली…

Read More
Tirthankara Mahavir

Tirthankara Mahavir : The influence of Lord Mahavir, the Jain Tirthankara, on India. तीर्थंकर महावीर का भारत पर प्रभाव

Tirthankara Mahavir : The influence of Lord Mahavir, the Jain Tirthankara, on India. तीर्थंकर महावीर का भारत पर प्रभाव प्रो.अनेकान्त कुमार जैन , आचार्य- जैनदर्शन विभाग, श्री लाल बहादुर शास्त्री राष्ट्रीय संस्कृत विश्वविद्यालय, नई दिल्ली https://youtube.com/@anekantkumarjain भगवान महावीर Tirthankara Mahavir ने ईसा की छठी शताब्दी पूर्व से ही प्रथम तीर्थंकर ऋषभदेव की परम्परा को अक्षुण्ण…

Read More
Tirthankar Rishabhdev

The primordial deity of Indian culture: Tirthankar Rishabhdev.भारतीय संस्कृति के आदिदेव : तीर्थंकर ऋषभदेव

The primordial deity of Indian culture: Tirthankar Rishabhdev. भारतीय संस्कृति के आदिदेव : तीर्थंकर ऋषभदेव Tirthankar Rishabhdev प्रो. अनेकान्त कुमार जैन,नई दिल्ली                    मनुष्य के अस्तित्व के लिए रोटी, कपडा, मकान जैसे पदार्थ आवश्यक हैं, किंतु उसकी आंतरिक सम्पन्नता केवल इतने से ही नहीं हो जाती। उसमें अहिंसा, सत्य, संयम, समता, साधना और तप के…

Read More
jain ghat

five vows : In religious places, it is mandatory to observe atomic five vows.धार्मिक स्थानों में अनिवार्य है पांच अणुव्रतों का पालन

five vows : In religious places, it is mandatory to observe atomic five vows धार्मिक स्थानों में अनिवार्य है अणुव्रतों का पालन   प्रो.डॉ.अनेकांत कुमार जैन ,नई दिल्ली Prof Anekant Kumar Jain अन्यक्षेत्रे कृतं पापं पुण्यक्षेत्रे विनश्यति ।     पुण्यक्षेत्रे कृतं पापं  वज्रलेपो भविष्यति || अन्य क्षेत्र में किया हुआ पाप पुण्य क्षेत्र में…

Read More

वर्तमान में बढ़ते मंदिर और मूर्तियों का औचित्य – अनेकांत कुमार जैन

वर्तमान में बढ़ते मंदिर और मूर्तियों का औचित्य                                                                      प्रो अनेकांत कुमार जैन ,नई दिल्ली जैन परंपरा में मंदिर और मूर्ति निर्माण का इतिहास बहुत पुराना है | खारवेल के हाथी गुम्फा अभिलेख में कलिंग जिन की मूर्ति वापस लाने का उल्लेख है | वर्तमान में सबसे प्राचीन जैन मूर्ति पटना के लोहनीपुर स्थान से प्राप्त…

Read More
Namokar Mantra

Namokar mantra: णमोकार मन्त्र साधना का प्रत्यक्ष अनुभव (Live Experience of Namokar Mantra Sadhana)

         Live Experience of 108 Namokar Mantra Sadhana  Namokar mantra:  णमोकार मन्त्र साधना का प्रत्यक्ष अनुभव ✍️प्रो.डॉ अनेकान्त कुमार जैन,नई दिल्ली बहुत धैर्य पूर्वक भी पढ़ा जाय तो कुल 15 मिनट लगते हैं108 बार भावपूर्वक णमोकार मंत्र namokar mantra का जाप करने में ,किन्तु हम वो हैं जो घंटों न्यूज चैनल देखते…

Read More
तीर्थंकर

Cleanliness and purity campaign of Lord Mahavir: भगवान् महावीर का स्वच्छता और शुद्धता अभियान

भगवान् महावीर (Lord Mahavir) का स्वच्छता और शुद्धता अभियान Cleanliness and purity campaign of Lord Mahavir प्रो अनेकांत कुमार जैन* भारत सरकार के स्वच्छ भारत अभियान आन्दोलन से स्वच्छता ने हमारी भारतीय संस्कृति  के गौरव को पुनः स्थापित करने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभायी है  | भारतीय समाज में इसी तरह का स्वच्छता अभियान भगवान्…

Read More
Vidyasagar Ji Munimaharaj

Sant Siromani Digambaracarya Sri Vidyasagar Ji Munimaharaj: Epitome of Excellence of Knowledge and Austerity

Sant Siromani Digambaracarya Sri Vidyasagar Ji Munimaharaj: Epitome of Excellence of Knowledge and Austerity Dr. Arihant Kumar Jain, Mumbai A great ascetic, epitome of erudition and spiritual insight, Saṅt Śiromaṇi Digambarācārya Śri Vidyāsāgar Ji Munimahārāj has dedicated his life to the pursuit of knowledge and the dissemination of knowledge. Born into a world yearning for…

Read More
bhagwan mahavira

तीर्थंकर भगवान् महावीर की वर्तमान दिगंबर जैन आचार्य परंपरा – Teerthanker Bhagwan Mahavira

The Present Digambar Jain Acharya tradition of Teerthanker Bhagwan Mahavira तीर्थंकर भगवान् महावीर की वर्तमान दिगंबर जैन आचार्य परंपरा                                               प्रो अनेकांत कुमार जैन,नई दिल्ली वर्तमान में दिगंबर जैन साधना पद्धति अक्षुण्ण रूप से विद्यमान है |ये बीसवीं एवं इक्कीसवीं सदी में साधना की  उत्कृष्ट तपस्या पद्धति है | वर्तमान में जो भी दिगंबर साधु भगवंत हमें दर्शन दे…

Read More
error: Content is protected!